गुरुवार, 15 अक्तूबर 2020

देश के 65 लाख पेंशनधारकों के लिए मा. C.S.PRASAD REDDY, CHIEF COORDINATOR, SOUTHERN REGION, द्वारा बहोत ही जरुरी सन्देश

ALL INDIA EPS95 PENSIONERS SANGHARSHAN  SAMITHI & NATIONAL  AGITATION COMMITTEE

देश के 65 लाख पेंशनधारकों के लिए मा. C.S.PRASAD REDDY, CHIEF COORDINATOR, SOUTHERN REGION, उनके द्वारा बहोत ही जरुरी सन्देश सांझा किया गया है जिसे जानना हर ईपीएस 95 पेंशनधारक जरुरी है। उनके द्वारा सन्देश में कहा गया है,

प्रिय मित्रों,

हमारे संगठन के गठन के बाद से, हमने मासिक या वार्षिक सदस्यता के लिए कोई राशि / धन एकत्र करना शुरू नहीं किया है। हमारा संगठन सेवानिवृत्त पेंशनभोगी संगठनों से कोई धन एकत्र नहीं कर रहा है, जो स्वैच्छिक योगदान को छोड़कर, हमारा समर्थन कर रहे हैं।

यह हमारे ध्यान में आया है, कि कुछ संगठनात्मक नेता सदस्यता शुल्क जमा कर रहे हैं। 200 या रु. 300 या रु. 400 और उसमें संदेश जोड़ रहे है की वे एनएसी का समर्थन कर हैं।

इसलिए, मैं यह स्पष्ट करना चाहता हूं, कि हमारे संगठन को अपने सेवानिवृत्त पेंशनर संघों की सदस्यता के लिए धन एकत्र करने में हमें कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन हमारे संगठन को समर्थन देने के नाम पर नहीं। धन इकट्ठा करने के लिए हमारे संगठन के समर्थन की घोषणा का उपयोग नहीं किया जा सकता है ऐसा  उनके द्वारा सभी ईपीएस 95 पेंशनधारकों को बताया गया है।

इसके अलावा, यह स्पष्ट करना है कि हमारे संगठन का नेतृत्व कमांडर अशोक राउत कर रहे हैं, जो राष्ट्रिय अधक्ष्य के रूप में सेवानिवृत्त नौसेना कमांडर हैं और मा. वीरेंद्र सिंह राष्ट्रीय सचिव के रूप में जो सेवानिवृत्त कार्यकारी अभियंता हैं और हमारे 65 लाख गरीब पेंशनरों और उनके कल्याण के लिए पूरी ईमानदारी से लड़ रहे हैं।

यह भी हमारे संज्ञान में आया है, कि कुछ व्यक्ति रु. 1000 या रु. 5000 की न्यूनतम पेंशन वृद्धि के लिए अदालतों से संपर्क करने के लिए प्रति व्यक्ति ले रहे है। हमारी सलाह के बावजूद, वे अभी भी ऐसा करना जारी रखे हुए हैं। इस संबंध में, यह स्पष्ट करना है कि हमारे संगठन का ऐसे व्यक्तियों के साथ कोई संबंध नहीं है जो अदालतों से संपर्क करने के लिए धन एकत्र कर रहे हैं। हमारे राष्ट्रिय अधक्ष्य जो सेवानिवृत्त नौसैनिक कमांडर हैं, वे इस तरह की वार्षिक सदस्यता या अदालत के खर्च के लिए भुगतान की गई राशि पर कोई हिस्सा नहीं ले रहे हैं। कृपया ध्यान दें कि हमारा संगठन किसी भी तरह से EPS95 पेंशनभोगियों से राशि के संग्रह के लिए जिम्मेदार नहीं है और मध्यस्थों को धन इकट्ठा करने और पैसा भेजने की अनुमति नहीं देता है। हमारा संगठन सीधे स्वैच्छिक दान स्वीकार करता है।

यदि सभी पेंशनभोगी या उनके संगठन एनएसी को स्वेच्छा से राशि दान करना चाहते हैं, तो वे केवल एक प्रणाली के माध्यम से दान करने के लिए स्वागत करते हैं अर्थात राशि को सीधे NAC के मुख्य कार्यालय खाते में स्थानांतरित करना जिसके लिए राष्ट्रीय संघर्ष समिति के मुख्य कार्यालय द्वारा एक अधिकृत रसीद जारी की जाएगी। समिति की ओरसे अब तक राशि का कोई मध्यवर्ती संग्रह नहीं है। NAC के मुख्य कार्यालय के खाते का विवरण: -

बैंक ऑफ इंडिया, 

'EPS'95 NIVRUTT KARMACHARI SAMANVAY & LOKAKALYAN SANSTHA का खाता, 

खाता संख्या: 924320110000324 

IFSC CODE: ID0009013, 

BULDANA BRANCH, MAHARASHTRA

यह स्पष्ट करने के लिए आगे है कि हमारे संगठन ने कभी भी उच्च पेंशन प्राप्त करने के लिए कानून की अदालत (उच्च न्यायालयों) से संपर्क करने और अदालत के खर्च पर धन बर्बाद करने की सलाह नहीं दी। हम बहुत स्पष्ट हैं कि हमारा उद्देश्य हमारी मांगों को प्राप्त करने के लिए सरकार से लगातार संपर्क में रहना है।

जबकि यह गलत है कि NAC के नाम से किसी के द्वारा कोई धन एकत्र करना या यह कहना उचित नहीं है कि वे NAC या इस संगठन का समर्थन करना चाहते हैं। यदि एकत्र किया गया है, तो कृपया ध्यान दें कि एकत्र किए गए व्यक्ति / व्यक्ति ऐसे संग्रह के परिणामों का सामना करने के लिए जिम्मेदार होंगे।

सभी ईपीएस 95 पेंशनरों से अनुरोध किया जाता है कि राष्ट्रीय संघर्ष समिति किसी भी प्रकार के भुगतान के लिए जिम्मेदार या जवाबदेह नहीं होगी, जो हमारे राष्ट्रीय संघर्ष समिति या हमारे संगठन के साथ संबद्धता के नाम पर मध्यस्थों या एजेंसियों या संघों को भुगतान करता है।

Yours sincerely,
C.S.PRASAD REDDY
CHIEF COORDINATOR,
SOUTHERN REGION,
NATIONAL AGITATION COMMITTEE,

तो जी हा ये महत्वपूर्ण  सन्देश सभी ईपीएस 95 पेंशनधारकों के लिए सांझा किया गया है। सभी ईपीएस 95 पेंशनधारकों से निवेदन है की इस सन्देश को सभी ईपीएस 95 पेंशनधारकों के साथ शेयर करे।


 

मंगलवार, 13 अक्तूबर 2020

EPS 95 pENSIONER of South India A Message by C S Prasad Reddy, Chief coordinator, Southern Region, National Agitation Committee

दिनांक 12 अक्टूबर 2020 देश के 65 लाख पेंशनधारकों के लिए जो की ईपीएस 95 योजना के तहत पेंशन प्राप्त करते उन सभी ईपीएस 95 पेंशनधारकों के लिए राष्ट्रीय संघर्ष समिति (NAC)के राष्ट्रिए अध्यक्ष मा. कमांडर श्री अशोक राउत जी ने सभी को एक अच्छा संदेश दिया है।

CLICK HERE FOR HINDI VIDEO

CLICK HERE FOR ENGLISH VIDEO 

मा. कमांडर श्री अशोक राउत ने बहुत ही स्पष्ट शब्दों में NAC के द्वारा किये जा रहे प्रयासों से सभी को अवगत कराया है, इतना सुनने के बाद किसी को कोई संदेह नहीं होना चाहिए, कि न्यायोचित मांगों को लेकर जो भी किया जा सका है, किया गया है, और किया जा रहा है, सभी को पूरा विश्वास है कि इसके परिणाम अच्छे ही आने हैं और जल्द ही वांछित न्याय मिल कर ही रहेगा, अफवाहों का सिर्फ एक ही मकसद होता है, कि मंजिल की ओर बढ़ते कदम को अवरुद्ध कैसे किया जाय, क्या और कितना लाभ होता होगा किसी को इन अफवाहों से, कहना बहुत मुश्किल है, पर अनेकों को इससे नुकसान होना निश्चित ही है। 

साथ ही उन्होंने कहा की कोर्ट नाम पर कुछ लोग पेंशनधारकों से पैसे भी मंगाते है तो ऐसे लोगो से भी सावधान रहने की जरुरत है और उन्हें पैसे न देने के लिए भी मा. कमांडर श्री. अशोक राउत जी द्वारा कहा गया है।आगे ईपीएस 95 पेंशन बढ़ोतरी के सन्दर्भ उनके द्वारा बताया गया है की उन्हें पूरा विश्वास है की 4 मार्च 2020 को मा. संसद सदस्य हेमा मालिनीजी अगुवाइ में मा. प्रधान मंत्री जी की साथ बैठक संपन्न थी बैठक में मा. प्रधान मंत्रीजी द्वारा उन्हें आश्वासन दिया गया है। मा. कमांडर श्री. अशोक राउत जी द्वारा पूर्ण विश्वास से कहा गया है उनका काम जल्द ही होगा। 

सभी साथियों का सौभाग्य ही है कि एक बड़े आंदोलन को कमांडर साब जैसे सशक्त सक्षम निष्ठावान नेतृत्व का साथ मिला है, बस सब को एक साथ रह कर आगे बढ़ते रहने की ही जरूरत है।

मा. कमांडर श्री अशोक राउत जी के सन्देश को सभी ईपीएस 95 पेंशनधारको के साथ सांझा किये जाने के अब कोई संदेह है ऐसी प्रतिक्रया ईपीएस 95 पेंशनधारकों द्वारा दी गई है। 

इन सभी प्रतिक्रिया को जवाब देते हुए मा. C S Prasad Reddy, Chief coordinator, Southern Region कहा गया है की मा. कमांडर श्री अशोक राउत जी के वीडियो संदेश जो कल रात मेरे द्वारा सभी दक्षिण भारतीय समूहों में पोस्ट किया गया था उसके जवाब में मुझे हमारी एनएसी टीम के साथ जुड़ने के लिए बधाई दी गई और उनके एनएसी के साथ होने के आश्वासन के कई संदेश मिल रहे हैं।

इस प्रकार, यह स्पष्ट है, कि आप सभी की प्रतिक्रिया भारी है और इस तथ्य को साबित करती है कि आप सभी मा. कमांडर श्री अशोक राउत जी, हमारी राष्ट्रीय संघर्ष समिति और मुझे समर्थन करते हैं। NAC के प्रयासों की सराहना करते हुए कई फोन कॉल प्राप्त हुए हैं, जिनके बारे में मैंने टेलीफोन पर ही धन्यवाद दिया है।

इस मौके पर, मैं हमारी NAC कोर टीम को दिए जा रहे महान और बड़े समर्थन के लिए आप सभी को धन्यवाद देने का सौभाग्य प्राप्त करता हूं। मैं सभी को बधाई के लिए एक बार फिर से धन्यवाद देता हु।

आशा है कि अपना सहयोग और समर्थन हमेशा बना रहेगा।

सादर,
C.S.PRASAD REDDY
CHIEF COORDINATOR,
SOUTHERN REGION,
राष्ट्रीय संघर्ष समिति (NAC)


 

रविवार, 11 अक्तूबर 2020

EPS 95 NAC NEWS | EPS 95 NAC MEETING DETAILS HELD ON 11 OCTOBER 2020

जैसा की सभी EPS 95 पेंशनधारकों को अवगत है राष्ट्रिय संघर्ष समिति द्वारा दिनांक 11 अक्टूबर को JioMeet के माध्यम से ऑनलाइन  बैठक का आयोजन किया गया था, और इस बैठक के आयोजन के बारे में पहले सभी EPS 95 पेंशनधारकों  शामिल होने के लिए जानकारी दी गई थी और समय पर यह बैठक शुरू हुई। 

इस बैठक में ईपीएस 95 पेंशन बढ़ोतरी को लेकर आगे की रणनीति पर चर्चा की गई। इस बैठक में मा. रंजीत सिंह दासुंदी  Chief coordinator, North India, C S Prasad Reddy, Chief coordinator, Southern Region, तपन दत्ता स्टेट प्रेसिडेन्ट पच्छिम बंगाल, महादेव गाडगे, सुधीर उपाध्याय, काली चरण, नागराजा एस., पंकज दास गुप्ता और लगभग 60 अन्य पेंशनधारक शामिल हुए। आइये जानते है इस बैठक में कोनसे मुद्दों पर चर्चा की गई।


बैठक की जानकारी जानने सबसे पहले सभी EPS 95 पेंशनधारकों को अवगत करना चाहूंगा की मा. रंजीत सिंह दासुंदी द्वारा हमें बताया की बैठक की जानकारी को मसाला लगा कर साजा  किया जाये अगर ऐसा होता है तो यह आपत्तिजनक होगा इसलिए उनके आदेश को सरआंखों पर रखते है पर बहोत सारे EPS 95 पेंशनधारक इस बैठक में शामिल नहीं हो पाए उन सभी EPS 95 पेंशनधारकों इस बैठक के बारे में जानकारी देना जरुरी है इसी उद्देश्य से इस बैठक में जो बाते मा. रंजीत सिंह दासुंदी द्वारा दी गई उसे अभी हम जानने  वाले है। 

मा. रंजीत सिंह दासुंदी द्वारा सभी EPS 95 पेंशनधारकों को EPS 95 पेंशनधारकों की जो मांगे है उसे पूरा किये जाने के लिए जो संघर्ष राष्ट्रीय संघर्ष समिति द्वारा मा. कमांडर अशोक जी राउत के नेतृत्व में किया जा रहा है उसके बारे में विस्तार से जानकारी दी गई। आगे उन्होंने EPS 95 पेंशन बढ़ोतरी के मा.प्रधान मंत्री जी से जो 4 मार्च 2020 को बैठक हुई थी तो किस तरह से संभव हो पाई इसके  विस्तार से जानकारी सभी EPS 95 पेंशनधारकों को दी। यह बैठक मा. संसद सदस्य हेमा मालिनीजी की अगुवाई में हुई थी। इस बैठक में पेंशनधारकों की मांगो मा. प्रधान मंत्री जी द्वारा ध्यान सुना  और मा. डॉ जीतेन्द्र सिंह जी को EPS 95 पेंशनधारकों की समस्याओ को सुलझाने के लिए आदेश दिया गया था।उसके बाद मा. डॉ जीतेन्द्र सिंह जी के साथ लगभग ढाई घंटे की चर्चा हुई थी और पेंशनधारको की समस्या ओ को सुलझाने के आदेश संधित विभाग को भी दिए गए थे।पर अभी तक पेंशनधारको की मांगे मंजूर नै हुई है इसलिए लगातार प्रयास जारी है। 

साथ ही मा. कमांडर अशोक राउत द्वारा जो बात सभी को इससे पहले कही गई थी की, एनएसी के बैनर तले किसी भी आंदोलन कार्यक्रम के लिए नहीं जाना चाहिए उसे भी बताया गया। कमांडर अशोक राउत सर के अनुसार एनएसी केंद्रीय टीम अनुकूल निर्णय के लिए नवम्बर महीने तक प्रतीक्षा करेगी क्योंकि माननीय पीएम ने हमें आश्वासन दिया। 

साथ ही तपन दत्ता स्टेट प्रेसिडेन्ट पच्छिम बंगाल द्वारा कहा की ज्यादा से ज्यादा ईपीएस पेंशनरों को हमें संघटन में शामिल करना होगी यदि कोई हमारी सदस्यता लेना चाहता है लेकिन पूर्ण सदस्यता (रु. 10 / प्रति माह या रु 120 / प्रति वर्ष) का भुगतान करने की स्थिति में है।

उस स्थिति में हम उन्हें एक विशेष मामले के रूप में मानते हैं (कमांडर सर के अनुरोध के अनुसार) केवल 1 वर्ष के लिए हमारी सदस्यता के लिए एक टोकन मनी के रूप में रु. 10 देकर भी संघटन में शामिल हो सकते। अगर आप भी राष्ट्रिय संघर्ष समिति से जुड़ना चाहते है तो आप राष्ट्रिय संघर्ष समिति के सदस्यों बात कर इसमें शामिल हो सकते है। राष्ट्रिय संघर्ष समिति के सदस्यों की राज्य के हिसाब से जानकारी निचे दी गई। आप उनसे संपर्क करके राष्ट्रिय संघर्ष समिति में शामिल हो सकते है। 

 साथ ही सी इस प्रसाद रेड्डी जी द्वारा बताया गया की राष्ट्रिय संघर्ष समिति किसी राजनैतिक दल से संबंधित नहीं है और राष्ट्रिय संघर्ष समिति का उद्देश्य केवल समाज सेवा है। हम भी हमारी तरफ से राष्ट्रिय संघर्ष समिति के प्रयासो का समर्थन करते है।
 
दोस्तों पैसा किसी एसोसिएशन का महत्वपूर्ण हिस्सा नहीं है। हमें अपने संगठन को और अधिक मजबूत बनाना होगा। सदस्य एक संगठन की वास्तविक ताकत हैं।

हम अपनी एनएसी गतिविधियों में हर व्यक्ति की भागीदारी चाहते हैं। इस बार हमें देश से बाहर जाकर अधिक गहन आंदोलन कार्यक्रम बनाना है।

शुक्रवार, 9 अक्तूबर 2020

EPS 95 PENSIONERS NEWS | Leader of Sugar Mills, Vellore, Tamil Nadu spoke to PM Hema Maliniji for EPS 95 Pension HIke

देश के 65 लाख EPS 95 पेन्शनर्स की मांगे मंजूर करवाने के लिए राष्ट्रीय संघर्ष समिति द्वारा लगातार प्रयास किये जा रहे है। राष्ट्रीय संघर्ष समिति द्वारा EPS 95 पेन्शनर्स को न्यनतम पेंशन 7500 समेत महंगाई भत्ते जोड़े जाने के साथ, चिकित्सा सुविधा, मा. उच्चतम न्यायलय के आदेशानुसार उच्च्चतम वेतन पर पेंशन के भुगतान की मांगे की जा रही है। इसी मांगो को जल्द से जल्द पूरा कराने के दिनांक 9 अक्टूबर 2020 को शुगर मिल्स, वेल्लोर, तमिलनाडु के एक नेता ने मा.श्रीमती हेमा मालिनी जी, सांसद, मथुरा से बात की। 

टेलिफोनिक कॉल के परिणाम की सूचना सभी EPS 95 पेंशनधारकों ऑनलाइन बैठक का आयोजन कर के रविवार को सुबह 10.10 बजे वीडियो कॉल में दी जाएगी। यह वीडियो बैठक का आयोजन JioMeet पर किया जायेगा।  इसलिए अगर आपने अभी तक JioMeet अपने फोन में INSTALL कर ले। JioMeet INSTALL करने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करे।

जिओमीट इनस्टॉल करने के लिए यहा क्लिक करे

साथ ही भविष्य में सभी बैठकों का आयोजन वीडियो कॉल JioMeet पर ही किया जायेगा। ऐसी जानकारी माननीय श्री C S Prasad Reddy, Chief coordinator, Southern Region NAC द्वारा सभी EPS 95 पेंशनधारकों को जारी की गई है। जिओमीट को प्‍लेस्‍टोर से भी डाउनलोड कर सकते है।

बैठक की जानकारी

Prasad Reddy C S is inviting you to a scheduled JioMeet meeting.

Topic : EPS 95 PENSIONERS INTERACTIVE SESSION

Start Time : Sun 11 Oct, 2020 10:10 AM Indian Standard Time

End Time : Sun 11 Oct, 2020 12:45 PM Indian Standard Time

Meeting ID to join meeting by entering the Password

Meeting ID: 477 934 5906

Password: CB7uc

जिओमीटमें शामिल होने के लिए यहाँ क्लीक करे

जिओमीट के लिए आवश्यक अनुशासन: -

  • मेजबान द्वारा पूछे जाने पर, प्रतिभागियों को अपनी आवाज़ सुनानी होगी।
  • अन्य प्रतिभागियों को अशांति से बचने के लिए परिवार के सदस्यों और बच्चों से दूर बैठें।
  • जब बारी आती है, तो प्रतिभागी UNMUTE और बोल सकता है।
  • प्रतिभागी को सुबह रविवार 10.10 बजे समय पर बैठक में शामिल होना चाहिए। देर से शामिल होने वाले सदस्यों को शामिल नहीं किया जायेगा, क्योंकि इससे दूसरों को परेशानी हो सकती है।

लॉग इन करने के लिए कदम:

1. अपने मोबाइल या लैपटॉप में JIOMEET डाउनलोड करें।

2. JOIN MEETING चुनें

3. टाइप मेकिंग आईडी

4. टाइपिंग पासवर्ड

5. अपना नाम लिखें

6. HOST द्वारा आपको स्वीकार करने के लिए समय के लिए प्रतीक्षा करें।

अब आप मीटिंग में शामिल हो सकते हैं।

बुधवार, 7 अक्तूबर 2020

Member of Parliament Mr. P.C. Mohan has written a letter to the Minister of State for Personnel, Public Grievances and Pensions

देश के 65 लाख EPS 95 पेन्शनर्स की मांगे मंजूर करवाने के लिए राष्ट्रीय संघर्ष समिति द्वारा लगातार प्रयास किये जा रहे है। राष्ट्रीय संघर्ष समिति द्वारा EPS 95 पेन्शनर्स को न्यनतम पेंशन 7500 समेत महंगाई भत्ते जोड़े जाने के साथ, चिकित्सा सुविधा, मा. उच्चतम न्यायलय के आदेशानुसार उच्च्चतम वेतन पर पेंशन के भुगतान की मांगे की जा रही है। इसी मांगो को जल्द से जल्द पूरा कराने के लिए राष्ट्रिय संघर्ष समिति NAC बैंगलोर की ओर से ईपीएस 95 पेंशनर्स की मांगो को मंजूर करवाने के लिए श्री नागराज जी, कर्नाटक राज्य उपाध्यक्ष, ने सांसद सदस्य से गुजारिश की थी। जिसके बाद संसद सदस्य श्री पी.सी. मोहन ने ईपीएस 95 पेंशनरों की मांगों के संबंध में कार्मिक, लोक शिकायत और पेंशन राज्य मंत्री को पेंशनधारको की मांगो पर ध्यानाकर्षण के लिए पत्र लिखा है। आज के इस अपडेट में इसी के बारे में जानकारी लेने वाले अहइ।

मंगलवार दिनांक 06 अक्टूबर 2020 को बैंगलोर के सांसद सदस्य श्री पी.सी. मोहनजी ने ईपीएस 95 पेंशनधारको की मांगो के सम्बद्ध में एक पत्र कार्मिक लोक शिकायत और पेंशन राज्य मंत्री श्री जितेंद्र सिंह जी को लिखा है। इस पत्र में ईपीएस 95 पेंशनधारको की मांगो को मंजरू करने की गुजारिश और ईपीएस 95 पेंशनधारको को सहयोग देने की अपील की गई है। 

इस पत्र में सांसद सदस्य श्री पी.सी. मोहनजी ने कहा की ईपीएस 95 पेंशन के विषय के संबंध में मुझे एक प्रतिनिधित्व दिया  गया है, जिस पर आपको ध्यान देने की आवश्यकता है। संगठन द्वारा उठाए गए मुद्दे वास्तव में ईपीएस 95 पेंशनरों से संबधित है और मैं इस मामले को सुलझाने के लिए आपकी ओर से समर्थन चाहता हूं क्योंकि यह मामला वरिष्ठ नागरिकों को दुखी कर रहा है।

मुझे यह समझने के लिए भी दिया गया था कि कुछ पात्र लाभार्थियों को उपरोक्त योजना के दायरे से बाहर रखा गया है और मैं आपसे आग्रह करता हूं कि आप उस पर ध्यान दें। इससे उन हजारों वरिष्ठ नागरिकों को मदद मिलेगी, जिन्होंने देश के लिए काम किया है, लेकिन अब वे अपनी आवाज नहीं उठा पा रहे हैं। मैंने आपकी समझ के लिए याचिका को संलग्न किया है।

मंगलवार, 6 अक्तूबर 2020

EPS 95 LATEST NEWS TODAY | EPS 95 PENSION HIKE DEMAND TO HON. SECRETARY MINISTRY OF LABOUR & EMPLOYEMENT

सभी ईपीएस 95 पेंशनधारको को अवगत है की माननीय श्री अपूर्व चंद्र जी IAS, सचिव MOL & E के रूप में नियुक्त हुए है। इस को देखते हैं NAC राष्ट्रिय अध्यक्ष्य माननीय कमांडर अशोक राउतजी ने नव नियुक्त सचिव, MOL & E को 02 nd, अक्टूबर 2020 को ईमेल द्वारा बधाई पत्र भेजा था। 

इस पत्र के बाद, शमराओ, राष्ट्रीय सचिव, ईपीएस 95 पेंशनर्स समन्वय समिति। बीदर, कर्नाटक ने माननीय को पत्र भेजा। श्री अपूर्वा चंद्रा जी, ईपीएस 95 पेंशनर न्यूनतम पेंशन बढ़ाने के साथ-साथ अन्य मांगें।

श्री अपूर्व चंद्र जी, IAS
माननीय सचिव,
श्रम और रोजगार मंत्रालय, भारत सरकार,
नई दिल्ली

आदरणीय महोदय,
मैं, ईपीएस 1995 के सभी पेंशनभोगियों की ओर से आपका स्वागत करता हूं, और वर्तमान पद को ग्रहण करने के लिए शुभकामनाएं भी देता हु।

जैसा कि हम सभी जानते हैं और अनुमान लगाते हैं कि श्रीमान, कि लोकतांत्रिक शासन में उनकी सेवा के संदर्भ में नागरिकों को न्याय की समानता होगी जो भारतीय मान के तहत दिन के माननीय सरकार द्वारा हर समय सुनिश्चित की जानी चाहिए।

संक्षेप में यह आपकी जानकारी में लाया गया है कि सेवा क्षेत्र पेंशन के अपने सेवानिवृत्ति लाभ में संगठित क्षेत्र के कामगारों के साथ बिना किसी भत्ते के भत्ते के साथ घोर अन्याय किया गया है क्योंकि यह कर्मचारी पेंशन योजना 1995 में प्रदान नहीं की गई है, जो कि नहीं होनी चाहिए। किया गया है, लेकिन इसे खुले में शौच के बिना लगाया गया है और इसे बिना किसी संशोधन के जारी रखा है, जो दशकों (25 साल) तक जारी रहा है, साथ ही साथ केंद्रीय या राज्य सरकार के पेंशन पर लागू होने वाली मौजूदा व्यवस्था के परिदृश्य के प्रति भी यह एक बहुत ही उदासीन पैटर्न है।

ईपीएस 1995 के तहत पेंशनभोगियों को अपनी सेवा के लिए बिना न्यूनतम भत्ता 1000 रुपये से कम और अधिकतम 3000 रुपये की सीमा के बीच एक नगण्य अल्प पेंशन प्राप्त करना जारी है।

ईपीएस 1995 के तहत पेंशन की प्रणाली से असंतुष्ट, याचिकाएं सर्वोच्च न्यायालय के समक्ष आ गई हैं और उन सभी ने ईपीएफओ द्वारा दायर समीक्षा याचिका / एसएलपी मामले के खिलाफ एक साथ टैग किया है और क्रमशः भारत के माननीय सरकार के लिए निर्धारित किया जाना है। 16 अक्टूबर 2020 को संभावित अंतिम सुनवाई के लिए पोस्ट किया गया।

यह आपकी विनम्र अपील है कि ईपीएफओ, श्रम एवं रोजगार मंत्रालय, भारत सरकार के उक्त मामलों में भारत सरकार के द्वारा उठाए जाने वाले रुख के अनुसार, कृपया बिना कुत्तेवाद के सभी मानवतावादी दृष्टिकोण के लिए वैज्ञानिक, तर्क और इसके ऊपर होना चाहिए। दूसरों के बीच निम्नलिखित मुख्य मुद्दों पर।

1) ईपीएस 1995 के पेंशनर्स (DIRE NEED) को न्यूनतम पेंशन में वृद्धि, वास्तविक वेतन पर उच्च पेंशन में उनकी स्थिति की परवाह किए बिना, जो एक नगण्य अंतर बनाता है और वर्तमान सीमा में EPS 95 पेंशन योग्य सेवा के परिभाषा कारक के साथ बनी हुई है।

(वास्तविक आयु पर उच्च पेंशन के गैर-लाभार्थी) संसदीय समिति की अनुशंसा रिपोर्ट 147 के अनुसार, यह देश के वर्तमान जीवन स्तर की वर्तमान न्यूनतम लागत के आधार पर पेंशनरों द्वारा मांग के अनुसार एक स्तर तक मूल्यांकन है जो इससे कम नहीं है।

2) महंगाई भत्ते का अनुदान, एक आवश्यक घटक, सेवा पेंशन का एक आवश्यक हिस्सा जो कि सरकार के सेवकों के मामले में पालन किए जाने के लिए मुद्रास्फीति के साथ लिंक करता है।

3) सभी ईपीएस 1995 के पेंशनभोगियों की पेंशन में छूट और वास्तविक वेतन पर उच्चतर पेंशन के शोधन से छूट वाली कंपनियों की पेंशन / पिछले 12 महीनों की औसतन कुल मजदूरी का पचास प्रतिशत सार्वभौमिक फार्मूला है।महोदय, यह विशेष रूप से सभी ईपीएस 95 पेंशनरों का अत्यंत विनम्र अनुरोध है, जो कि गरीब तबके की आवाज हैं, जो बहुसंख्यक हैं, अनकही तकलीफें झेल रहे हैं और वर्तमान सरकार के लिए वर्तमान अल्प पेंशन के साथ निर्भरता के साथ न्याय की मांग कर रहे हैं ताकि वे जीवित रहें। सामाजिक आर्थिक सुरक्षा के साथ मानव-सम्मान का जीवन एक जीवंत पेंशन के साथ होता है जो केवल तब होता है जब वे पेंशन के साथ प्रदान की जाती हैं, यह प्यारेनेंस भत्ता के साथ न्यूनतम की वृद्धि है जो आगे के संशोधनों के अधीन वास्तविक मजदूरी पर रहने / संशोधन की वर्तमान लागत के अनुरूप है।

आपका
शामराव, राष्ट्रीय सचिव,
ईपीएस 95 पेंशनर्स समन्वय समिति
BIDAR, कर्नाटक

(नोट: यह भाषांतर अंग्रेजी का हिंदी में किया गया है, संभवताय कुछ ट्रूटिया हो सकती है। )

सोमवार, 5 अक्तूबर 2020

केंद्रीय मंत्री श्री प्रकाश जावड़ेकर जी श्री नरेंद्र मोदीजी के साथ EPS 95 पेंशन बढ़ोतरी पर चर्चा करेंगे, ईपीएस 95 पेंशनधारको के साथ बैठक संपन्न

देश के 65 लाख पेंशनधारको के लिए EPS 95 पेंशन बढ़ोतरी के लिए संघर्ष कर रही राष्ट्रिय संघर्ष समिति की गोवा की टीम ने 4 अक्टूबर 2020 को श्री रमेश सेतेय वायनकर के नेतृत्व में केंद्रीय मंत्री श्री प्रकाश जावड़ेकर को सीएम गोवा की उपस्थिति में प्रतिनिधित्व दिया है और 65 लाख ईपीएस 95 पेंशनर्स की मांगो को जल्द से जल्द मंजूर करने की गुजारिश की है जिसपर श्री जावड़ेकर ने आश्वासन दिया, की वह गोवा से दिल्ली लौटने के बाद श्री नरेंद्र मोदीजी  के साथ EPS 95 पेंशन बढ़ोतरी के इस मुद्दे पर चर्चा करेंगे।

सभी ईपीएस 95 पेंशनधारकों को अवगत है की वर्तमान केंद्रीय मंत्री श्री प्रकाश जावड़ेकर जी ने पहले भी 2014 के चुनाव के समय ईपीएस 95 पेंशनर्स की न्यूनतम पेंशन वृद्धि के लिए वादा किया था। हलाकि यह भी अवगत हो की ईपीएस 95 पेंशनर्स की न्यूनतम पेंशन जो पहले बहुत कम थी उसे न्यूनतम 1000/- रुपये प्रति महीने करने में जावड़ेकर जी ने अहम् भूमिका निभाई थी। साथ ही उनके द्वारा पूर्व में यह भी कहा गया था की उनकी सरकार सत्ता में आई तो कोशियर समिति की शिफारसो के अनुसार पेंशन में बढ़ोतरी की जाएगी पर अभी तक ऐसा नहीं हुआ है।

EPS 95 पेंशनधारकों की मांगे विस्तार से (DEMANDS OF EPS 95 PENSIONERS)

I) भगत सिंह कोश्यारी कमिटी द्वारा 2013 में प्रस्तावित ₹3000 एवं महंगाई उस पर महंगाई भत्ता के आधार पर न्यूनतम ₹7500 प्रति माह पेंशन एवं उस पर महंगाई भत्ता दीया जावे।

II) 31 मई 2017 की अनधिकृत अंतरिम अनुशंसा को निरस्त कर आयुक्त केंद्रीय भविष्य निधि संगठन के दिनांक 23 मार्च 2017 के अनुसार बढ़ी हुई दरों से पेंशन जारी की जावे।

III) समस्त ईपीएस 95 पेंशनरों को मुक्त चिकित्सीय सुविधाएं उपलब्ध कराई जावे।

IV)अज्ञानतवश जिन कर्मचारियों ने ईपीएस 95 पेंशन के सदस्य नहीं बन पाए उन्हें सदस्य बनाया जावे एवं तब तक सम्मानजनक जीवन जीने के लिए ₹5000 प्रतिमाह पेंशन के रूप में दिया जावे।

ईपीएस में कैसे होता है अंशदान

EPS-95 कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPS) की कर्मचारी पेंशन योजना है। EPS (कर्मचारी पेंशन योजना), 95 के तहत आने वाले कर्मचारियों के मूल वेतन (बेसिक और महंगाई भत्ता) का 12 प्रतिशत हिस्सा भविष्य निधि (Provident fund) में जाता है। वहीं नियोक्ता के 12 प्रतिशत हिस्से में से 8.33 प्रतिशत EPS में जाता है। 

यदि ईपीएफ खाताधारक 10 साल या उससे ज्यादा ईपीएफओ में अपना अंशदान करता है तो वह पेंशन का पात्र बन जाता है और खाताधारक की उम्र 58 वर्ष की होने के पश्चात् यह पैसा एक केल्क्युलेशन के हिसाब से, पेंशन के रूप में एक राशि, प्रति महीने खाताधारक को मिलती है।