Sunday, November 28EPS 95, EPFO, JOB NEWS

गीर सोमनाथ गुजरात का वि. सावंत 2078 सम्मलेन सम्पन्न


कोड़ीनार तालुका ई पी एस 95 पेंशनर्स मंडल, कोड़ीनार, जिला: गीर सोमनाथ गुजरात  का वि. सावंत 2078 स्नेह मिलन

दिनांक 11/11/21 को दोपहर 3:00 बजे कोडिनार नगरपालिका उद्यान में, तालुका की सभी सहकारी समितियों और सार्वजनिक निगमों और निजी कंपनियों के ईपीएस 95 पेंशनभोगियों वि. सावंत  2078 का स्नेह मिलन समारोह, मंडल के अध्यक्ष मा. श्री हाजाभाई ओ. बाराड़की  निगरानीमें संपन्न हुआ। सभिको अध्यक्ष द्वारा सम्मानित किया गया है। जिसमें कोडिनार तालुका सहकारिता बैंक, कोडिनार तालुका पर्चेस और सेल्स यूनियन, कोड़ीनार बिलेश्वर चीनी उद्योग, कोड़ीनार विद्युत बोर्ड/पीजीवीसीएल, सूत्रपाड़ा सोडा ऐश फैक्टरी आदि के करीब 45 पेंशन भोगी मिले।

न्यू ईयर स्नेह मिलन समारोह में, नए साल में शांति, समृद्धि और स्वास्थ्य के लिए सभीको शुभकामनाएं दी गई।  तत्पश्चात पेंशनर्स की लंबे समय से अनिर्णीत निम्नलिखित प्रश्नों पर चर्चा की गई।

(1) सबसे पहले गुजरात राज्य की ईपीएस 95 राष्ट्रीय संघर्ष समिति,गुजरात राज्य के प्रांतीय अध्यक्ष  मा. श्री आर सी पटेल साहब और बीके चौहान साहब माधापर भुज का अभिवादन संदेश नोट किया गया।

(2) दिनांक 19/9/21 को आयोजित पोस्टर अभियान कार्यक्रम में उपस्थित सभी पेंशनभोगियों को बधाई दी गई।

(3) पेंशन वृद्धि सहित हमारी मांगों के संबंध में राष्ट्रीय स्तर पर चल रहे कार्यक्रम, राष्ट्रीय संघर्ष समिति के अध्यक्ष श्री अशोक राउतजी और उनकी टीम द्वारा विभिन्न स्तरों पर केंद्र सरकार के साथ-साथ गुजरात के पेंशनरों को माननीय के माध्यम से प्रतिनिधित्व किया जा रहा है। और स्टेट प्रेसिडेंट मा. आरसी पटेल साहबकी औरसे गुजरात के सभी जिल्ला में चल रही प्रयासों की श्री दिनेशभाई मोरी ने सदस्यों को  जानकारी दी।

(4) श्री गोविंदभाई मोरी ने सदस्यों से संगठन में अधिक से अधिक संख्या में पेंशनभोगियों को शामिल करने और वर्तमान श्रमिक वर्ग के सदस्यों को भी शामिल करने की अपील की, जो वर्तमान में EPS 95 योजना में सदस्यों के रूप में अपने भविष्य के लाभ और काम के लिए फंड में योगदान कर रहे हैं। संगठन की आवाज को बल प्रदान करने के लिए वह  सदस्योको भी संगठन में एकजुट  होने के सामिल करनेका प्रयास करनेकी अपील की।

(5) यह प्रशंसनीय है कि हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अशोक राउतजी की टीम देश भर में और दिल्ली तक देश के 68 लाख पेंशनभोगियों के लाभ के लिए लगातार काम कर रही है और हमारे मंडल ने आज की बैठक में उनके मार्गदर्शन में कार्यक्रमों को जारी रखने के लिए सर्वसम्मति से सहमति व्यक्त की।

(6) केंद्र में हमारी मांगों के प्रभावी प्रतिनिधित्व के लिए प्रयास करने के लिए केंद्र में हमारे गुजरात राज्य के सांसदों और माननीय मंत्रियों को मिलकर प्रेजेंटेशन किया जाए।

(7) यदि गुजरात क्षेत्र का अगला अधिवेशन होता है, तो यह चर्चा की गई कि हमारे मंडल के सदस्यों को अधिक से अधिक संख्या में इसमें भाग लेना चाहिए।

(8) बुलढाणा ने सदस्यों को यह भी बताया कि आज हमारे भूख हड़ताल श्रृंखला कार्यक्रम का 1054वां दिन है।

(9) विशेष रूप से दिनांक 1/10/21 से 3/10/21 के दौरान सूरत में गुजरात सहकारी परिषद का राज्य स्तरीय सम्मेलन आयोजित किया गया था।  उस अधिवेशन में कोडिनार तालुका की देवली सहकारी समिति के अध्यक्ष श्री गोविंदभाई एन. मोरी, जो एक ईपीएस2 पेंशनभोगी भी हैं, उसने  जूनागढ़ जिला सहकारी बैंक के ईपीएस 95 पेंशनभोगी मा. श्री चिमनभाई डोबरियाकी (अब केशव क्रेडिट को-ऑप सोसाइटी के अध्यक्ष) सहयोगितासे  उस परिषद में प्रमुख श्री की सहमतिसे पेंसनरो प्रश्न उठाया कि,सहकारी समितियों के कर्मचारियोंका, सहकारी संस्थानोंके विकास में  अग्रसर योगदान दिया है तो , इस पेंशनरों वृद्धा वस्था में देखभाल करनेकी अपेक्षा सहकारी नेतागीरी के पास अपेक्षा रखते हैं , तो केंद्र सरकार की ई पी एस 95 कल्याकारी योजना के तहत लंबे समय से विलबित मांगो, जैसेकी  मिनिमम पेंशन रु 7500/- वत्ता मोंघवारी और अन्य मांगे पूर्ति के   एक प्रस्ताव पेश किया । जिसको  इस परिषद् में समर्थन देनेका ठराव प्रारित किया गया।

मंडल गुजरात सहकारी परिषद् को बहुत बहुत धन्यवाद।

साथ ही अभी चिमनभाई डोबरिया ने मुझे टेलीफोन पर सूचित किया है कि इस सहकारी परिषद का राष्ट्रीय स्तर का अधिवेशन दिनांक 18-19 डिसेंबर को लखनऊ में होने वाली बैठक में एजेंडा पर चर्चा के लिए हमारे प्रश्न को भी उठाया जाएगा। और हिंदी में एक मसौदा तैयार कर रहे हैं।

उपरोक्त प्रश्नों पर चर्चा करने के बाद सभा के संयोजक एवं सलाहकार मा.  श्री जे.बी. वाला साहबने बैठक में उपस्थित सभी सदस्यों के धन्यवाद प्रस्ताव के साथ बैठक की कार्यवाही पूर्ण करते हुए सभी से यथासम्भव संस्था से जुड़ने का अनुरोध किया।

“वंदे मातरम जय हिंद”

“ज्येष्ठ भारत, श्रेष्ठ भारत”

“बिना सहयोग नहीं उद्धार”

“संघ बलों  कलियुगे …”

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *