VEP News

Vacancy, Employees, & Pension News

67 लाख EPS 95 पेंशनर्स के लिए जरूरी खबर, पेंशन पर 20 जुलाई 2021 को आ सकता है सुप्रीम कोर्ट का फैसला, 67 लाख EPS 95 पेंशनर्स के लिए आज का दिन है खास

NEXT EPS 95 HIGHER PENSION CASES HEARING

देश के लाखों EPS 95 पेंशनर्स के लिए यह बहुत जरूरी सूचना है। EPFO Pension को लेकर आज यानि 20 जुलाई 2021 को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हो सकती है। इस पर जल्‍द ही अदालत का फैसला आ सकता है। इस संबंध में ताजा खबर यह है कि सर्वोच्च न्यायालय ने केरल उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) द्वारा दायर अपील में विरोधी पक्षों को नोटिस दिया था, जिससे पूर्ण पेंशन का वितरण होता है।

इससे पहले की सुनवाई में शीर्ष अदालत ने दो सप्ताह के भीतर जवाब देने की मांग की थी और मामले को 23 मार्च के लिए स्थगित कर दिया। ईपीएफओ ने मामले को स्थगित नहीं करने का अनुरोध किया था क्योंकि केरल उच्च न्यायालय के फैसले पर तुरंत रोक लगाने के लिए एक अंतरिम याचिका दायर की गई है। उन्होंने तर्क दिया था कि उच्च न्यायालय के फैसले के अनुसार पेंशन में 50 गुना की वृद्धि होगी और वे पेंशनरों के अधीक्षण के दौरान राशि की वसूली नहीं कर सकते हैं।

जनवरी में न्यायमूर्ति यू यू ललित की अध्यक्षता वाली पीठ ने केवल सर्वोच्च न्यायालय के फैसले को वापस ले लिया, जबकि उच्च न्यायालय के फैसले को रोक दिया गया था, यह अभी भी वैध है। इसके बाद, EPFO ने मामले पर तुरंत विचार करने का अनुरोध किया। न्यायमूर्ति यू यू ललित की अध्यक्षता वाली पीठ ने आश्वासन दिया कि मामले को आगे नहीं बढ़ाया जाएगा और सुनवाई 23 मार्च से दैनिक आधार पर आयोजित की जाएगी ऐसा आदेश में कहा था।

देश के लाखों EPS 95 पेंशनर्स 13 अप्रेल 2021 का दिन काफी महत्वपूर्ण है, क्यों की आज यानि 13 अप्रेल 2021को EPS 95 पेंशन से संबधित मामलों पर सुनवाई के आसार है। 23, 24, 25 मार्च की सुनवाई के लिए 59 याचिकाएं क्रमांक 15 न्यायालय संख्या 3
में सूचीबद्ध थी जो की  इन मामलों में से अब एक मामले की सुनवाई यानी
SLP NO. 20,417/2017 जो की M/S Daiichi Sankyo Company Ltd बनाम OSKAR
Investments Ltd इन मामलों पर सुनवाई हुई थी।

यह योजना कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) द्वारा प्रदान की जाती है और यह सुनिश्चित करती है कि कर्मचारी 58 वर्ष की आयु प्राप्त करने के बाद पेंशन प्राप्त करें। मौजूदा, साथ ही नए ईपीएफ सदस्य, योजना का लाभ उठा सकते हैं।

सूत्रों के अनुसार, सरकार को आरएस 2,000 की न्यूनतम पेंशन को लागू करने पर 4500 करोड़ रुपये का अतिरिक्त खर्च वहन करना होगा और अगर इसे 3,000 रुपये तक बढ़ा दिया जाता है, तो सरकारी खजाने को बड़े पैमाने पर 14,595 करोड़ रुपये खर्च होंगे।