VEP News

Vacancy, Employees, & Pension News

EPS 95 EPFO Pension latest news: लाखों EPS 95 पेंशनर्स के लिए जरूरी खबर, पेंशन पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला, आपका भविष्य निधि (PF) ढांचा जल्द ही बदल सकता है

EPS 95 EPFO Pension latest news

EPS 95 EPFO Pension latest news

75 / 100

EPS 95 EPFO Pension latest news: कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) के सदस्य सुप्रीम कोर्ट ईपीएफओ पेंशन के संबंध में महत्वपूर्ण फैसला का इंतजार। ईपीएफओ पेंशनर्स और सब्सक्राइबर की राय है कि शीर्ष अदालत का फैसला वेतन के अनुसार पेंशन के लिए उनके लंबे इंतजार को खत्म करेगा।

उच्चतम न्यायालय के निर्णय के खिलाफ श्रम और रोजगार मंत्रालय द्वारा दायर अपील पर 21 महीने बाद ईपीएफओ की समीक्षा याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ऑफ इंडिया सुनवाई थी। न्यायमूर्ति यू ललित की अध्यक्षता वाली तीन न्यायाधीशों की पीठ कल यानी 18 जनवरी को याचिकाओं पर विचार किया थ। इससे पहले केरल उच्च न्यायालय और उच्चतम न्यायालय ने ईपीएफओ पेंशनरों के पक्ष में फैसला सुनाया है।

EPS 95 EPFO Pension latest news: आपका भविष्य निधि (PF) ढांचा जल्द ही बदल सकता है

1 अप्रैल 2019 को सुप्रीम कोर्ट ने कर्मचारी पेंशन योजना (ईपीएस) की मासिक पेंशन पर केरल उच्च न्यायालय के फैसले को बरकरार रखा। श्रम मंत्रालय ने तब EPFO ​​द्वारा दायर समीक्षा याचिका के बावजूद उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ अपील दायर की थी। 12 जुलाई 2019 को तत्कालीन मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने दोनों याचिकाओं पर सुनवाई करने का आदेश दिया। हालांकि, इस संबंध में आगे कोई कार्रवाई नहीं की गई। इस बीच, संसदीय स्थायी समिति ने अक्टूबर 2019 में इस मामले में स्पष्टीकरण मांगा।

अगर सुप्रीम कोर्ट अपने फैसले को आगे बढ़ाता है, तो EPFO ​​संरचना में व्यापक बदलाव हो सकता है क्योंकि सुप्रीम कोर्ट की समीक्षा EPFO ​​ग्राहकों के PF खाते के संबंध में है। इस संबंध में, श्रम मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों ने कैबिनेट समिति को इस संबंध में कुछ सुझाव दिए हैं। इन अधिकारियों का विचार था कि EPFO ​​को जारी रखने और निधियों को अधिक प्रासंगिक बनाने के लिए, संरचनात्मक परिवर्तन किए जाने की आवश्यकता है। EPFO में 23 लाख से अधिक पेंशनभोगी हैं, जिन्हें हर महीने 1,000 रुपये पेंशन मिलती है। जबकि पीएफ में उनका योगदान इसके एक चौथाई से भी कम है। अधिकारियों ने कहा कि अगर ऐसा ही चलता रहा तो भविष्य में प्रबंधन करना मुश्किल हो जाएगा। यही कारण है कि इसे अधिक प्रासंगिक बनाने के लिए ‘परिभाषित योगदान’ को अपनाया जाना चाहिए।

वर्तमान में, ईपीएफओ पेंशन के लिए अधिकतम सीमा तय कर दी गई है। ‘परिभाषित योगदान’ का लाभ उठाने पर, ईपीएफ के सदस्यों को उनके योगदान के अनुसार लाभ दिया जाएगा अर्थात उनका योगदान योगदान के सीधे आनुपातिक होगा।

EPFO LATEST CIRCULAR: Click Here To Download Complete pdf of Gazette Notification No.GSR 299(E)

Also Read This:

EPF Death Claim Under EDLI: Employee Covered Under EDLI of EPF, Family Can Claim Upto 7 Lakh See Details