EPS 95 LATEST NEWS: A voice of EPS 95 Pensioner For Minimum Pension 7500+DA Hike, Higher Pension to EPS 95 Pensioners

78 / 100
EPS 95 LATEST NEWS: प्रिय मित्रों, देश में लगभग 70 लाख ईपीएस पेंशनर हैं। वे, उत्सुकता से 2 संस्थानों के फैसले का इंतजार कर रहे हैं। एक तो केंद्र सरकार यानी श्री मोदी सर्वोच्च नेता और दूसरा है सर्वोच्च न्यायालय, देश की सर्वोच्च न्यायपालिका। मा. पंत प्रधान नरेंद्र मोदीजी को कई बार सत्ता पक्ष के नेताओं सहित कई नेताओं द्वारा प्रस्तावित किया गया था। उनके पास कई बार, कई बयानों ने काजोलिंग पेंशनरों को दिया कि मा. पंत प्रधान नरेंद्र मोदीजी ने उन्हें ध्यान से सुना और तत्काल विचार और निर्णय के लिए आदेश दिया। उनमें से एक थीं मा. सांसद श्रीमती हेमा मालिनी संसद की सदस्य और सिने क्षेत्र की एक हस्ती। उन्होंने कहा था कि मा. पंत प्रधान नरेंद्र मोदीजी ने न्यूनतम पेंशन 7500 / रु की मांग रखी गई है। इन सांसदों के साथ आने वाले नेताओं ने बयान दिया कि मा. पंत प्रधान नरेंद्र मोदीजी उनकी बात सुनने में बहुत विचारशील थे और उन्होंने सम्बंधित विभाग को अवगत कराया कि मा. पंत प्रधान नरेंद्र मोदीजी एक अनुकूल निर्णय लेंगे।

श्री जावड़ेकर, जिन्होंने 2014 के चुनावों के दौरान भाजपा के सत्ता में आने के बाद कई बयान दिए थे, कोश्यारी की सिफारिशों को लागू करेंगे और 3000 रुपये न्यूनतम पेंशन देने का वादा किया था। बीजेपी 2014 और 2019 में दो बार सत्ता में आई और श्री जावडेकर 2014 से कैबिनेट मंत्री हैं। लेकिन इस महान नेता ने कभी भी इस मुद्दे को सार्वजनिक या कैबिनेट में उठाने की जहमत नहीं उठाई।

अब सरकार द्वारा नियुक्त उच्च अधिकार प्राप्त निगरानी समिति ने न्यूनतम पेंशन के रूप में 2000 रुपये की सिफारिश की। श्रम मंत्री ने संसद में जवाब दिया कि वे सिफारिशों को लागू करने की स्थिति में नहीं हैं। यह 2000 रुपये  न्यूनतम पेंशन के लिए बयान था। इस गरीब ईपीएस 1995 पेंशनर को बीजेपी से बहुत उम्मीदें थीं। लेकिन यहीं ईपीएस पेंशनर्स फंसे हुए हैं। दूसरी उम्मीद न्यायपालिका से थी। 16-10-2016 को सुप्रीम कोर्ट का फैसला और 01-04-2019 को केरल कोर्ट के 12-102018 के फैसले को बरक़रार  रखने वाला था। ईपीएस पेंशनरों को भरोसा था कि सरकार सर्वोच्च न्यायालय के निर्णयों का सम्मान करेगी। पर साल और साल बीत रहे हैं और पेंशनर्स सर्वोच्च न्यायलय के फैसले की राह देख रहे है।

सर्वोच्च न्यायालय के कार्यक्रम में मामलों की पोस्टिंग, तीन मुख्य न्यायाधीश आए और गए लेकिन मामलों पर कोई निर्णय नहीं हुआ। श्री गोगई आए और सेवानिवृत्त हुए। श्री बोबड़े आए और सेवानिवृत्त हो गए। श्री बोबड़े ने सरकार को आवाज दी थी और 01-04-2019 को निर्णय वापस ले लिया था। ईपीएस पेंशनरों को उम्मीद है और न्यायपालिका पर पूरी तरह से विश्वास है।

Read This Also: EPS 95 Higher Pension Cases News: EPS 95 पेंशनधारकों की बढ़ी मुश्किल, आखिर कब आएगा हायर पेंशन मामलो पर अंतिम फैसला

अब ईपीएस पेंशनरों को कोरोना महामारी की दूसरी लहर का सामना करना पड़ रहा है। कई लोग इस महामारी के शिकार हो गए हैं और न्यूनतम पेंशन प्राप्त किए बिना इस दुनिया को छोड़ दिया है। इस कुख्यात सरकार ने न्यूनतम वित्तीय राहत पर विचार करने के लिए ध्यान नहीं दिया, जैसा कि 6 महीने के लिए ईपीएफ योगदान का भुगतान करने के रूप में श्रमिकों को सेवा में दिया गया था।

लाखों और लाखों ईपीएस पेंशनर्स हैं जो एक दयनीय बुढ़ापे का नेतृत्व कर रहे हैं। निजी उद्योगों में सेवा में रहते हुए भी उनके पास मजदूरी थी जो केवल मुंह से दी जाती थी। ईपीएस 1995 पेंशनर्स सुगर प्राइवेट, कोऑपरेटिव, बीड़ी, सीमेंट, खदान जैसे उद्योगों और कई अन्य पुश्तों के उद्योगों का नाम ले सकते हैं जहा काम करके सेवानिवृत्त हुई है।




अब, यह कोरोना ईपीएस 1995 पेंशनरों सहित गरीबों के अवशेषों को लूट रहा है। ईपीएस पेंशनर खुद को संभालने में असमर्थ, चिंताजनक स्थिति में हैं। ईपीएस 1995 पेंशनरों के पास इंतजार करने के अलावा और कोई रास्ता नहीं है। लेकिन जब समय ईपीएस पेंशनरों को एक आदमी की तरह उठना पड़ा। आइए हम उस आयोजन की तैयारी करें और प्रतीक्षा करें।

एम एन रेड्डी, अध्यक्ष, AICCEPFPAs

EPS 95 LATEST NEWS: Pension News Today: Employees and retired employees observe one-day strike; seek Pension Updation, Switch from EPF Pension

1 thought on “EPS 95 LATEST NEWS: A voice of EPS 95 Pensioner For Minimum Pension 7500+DA Hike, Higher Pension to EPS 95 Pensioners”

Leave a Comment