Sunday, November 28EPS 95, EPFO, JOB NEWS

India records lowest Covid-19 cases in 287 days

भारत ने 8,865 नए लॉग किए कोरोनावाइरस संक्रमण, 287 दिनों में सबसे कम, देश की कुल संख्या को ले रहा है COVID-19 केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मंगलवार को अपडेट किए गए आंकड़ों के अनुसार, मामले 3,44,56,401 हो गए, जबकि सक्रिय मामले 1,30,793 हो गए, जो 525 दिनों में सबसे कम है।

सुबह 8 बजे अपडेट किए गए आंकड़ों के अनुसार, 197 ताजा मौतों के साथ मरने वालों की संख्या बढ़कर 4,63,852 हो गई, जिसमें केरल के 127 और महाराष्ट्र के 19 लोग शामिल हैं। केरल पिछले कुछ दिनों से कोविड की मौतों के बीच सामंजस्य बिठा रहा है।

मंत्रालय ने कहा कि नए कोरोनोवायरस संक्रमणों में दैनिक वृद्धि 39 सीधे दिनों के लिए 20,000 से नीचे रही है और लगातार 142 दिनों से 50,000 से कम दैनिक नए मामले सामने आए हैं।

मंत्रालय ने कहा कि सक्रिय मामलों में कुल संक्रमणों का 0.38 प्रतिशत शामिल है, जो मार्च 2020 के बाद सबसे कम है, जबकि राष्ट्रीय COVID-19 वसूली दर 98.27 प्रतिशत दर्ज की गई है, जो मार्च 2020 के बाद से सबसे अधिक है।

24 घंटे की अवधि में सक्रिय COVID-19 केसलोएड में 3,303 मामलों की कमी दर्ज की गई है।

दैनिक सकारात्मकता दर 0.80 प्रतिशत दर्ज की गई थी। पिछले 43 दिनों से यह दो फीसदी से भी कम है। साप्ताहिक सकारात्मकता दर 0.97 प्रतिशत दर्ज की गई थी। मंत्रालय के मुताबिक पिछले 53 दिनों से यह दो फीसदी से नीचे है।

बीमारी से स्वस्थ होने वालों की संख्या बढ़कर 3,38,61,756 हो गई, जबकि मृत्यु दर 1.35 प्रतिशत दर्ज की गई। राष्ट्रव्यापी COVID-19 टीकाकरण अभियान के तहत अब तक देश में प्रशासित संचयी खुराक 112.97 करोड़ से अधिक हो गई है।

भारत का COVID-19 टैली 7 अगस्त, 2020 को 20 लाख, 23 अगस्त को 30 लाख, 5 सितंबर को 40 लाख और 16 सितंबर को 50 लाख को पार कर गया था। यह 28 सितंबर को 60 लाख, 11 अक्टूबर को 70 लाख को पार कर गया था। , 29 अक्टूबर को 80 लाख, 20 नवंबर को 90 लाख और 19 दिसंबर को एक करोड़ के आंकड़े को पार कर गया। भारत ने 4 मई को दो करोड़ और 23 जून को तीन करोड़ के गंभीर मील के पत्थर को पार कर लिया।

देश में अब तक कुल 4,63,852 मौतें हुई हैं, जिनमें महाराष्ट्र से 1,40,602, कर्नाटक से 38,146, तमिलनाडु से 36,296, केरल से 35,877, दिल्ली से 25,095, उत्तर प्रदेश से 22,909 और पश्चिम बंगाल से 19,319 लोगों की मौत हुई है।

मंत्रालय ने जोर देकर कहा कि 70 प्रतिशत से अधिक मौतें सहरुग्णता के कारण हुईं।

मंत्रालय ने अपनी वेबसाइट पर कहा, “हमारे आंकड़ों का भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद के साथ मिलान किया जा रहा है।” आंकड़ों का राज्यवार वितरण आगे सत्यापन और सुलह के अधीन है।

.

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *