Friday, December 3EPS 95, EPFO, JOB NEWS

Lyricist bichu thirumala passed away and he penned lines for ar rahman music bhojpuri south mogi

मलयालम सिनेमा के जाने-माने गीतकार बिचु थिरुमाला (Bichu Thirumala) का शुक्रवार को हृदय गति (cardiac arrest) रुकने के कारण निधन हो गया. वे कई तरह की हेल्थ प्रॉब्लम्स से जूझ रहे थे और वेंटिलेटर सपोर्ट पर थे. अपनी काव्य गुणवत्ता के लिए जाने जाने वाले लोकप्रिय गीतकार ने 80 साल की उम्र में एक प्राइवेट हॉस्पिटल में अंतिम सांस ली. थिरुमाला 1970 से 1990 के दशक तक मलयालम सिनेमा में एक गीतकार के रूप में विपुल थे, उन्होंने लगभग 3000 फिल्मी गीतों के साथ-साथ कई भक्ति गीतों को को भी लिखा है. उन्होंने एमएसबाबूराज से लेकर ए आर रहमान तक कई संगीतकारों के साथ काम किया है.

अपनी लेखनी के जरिए वे सभी प्रकार की परिस्थितियों के अनुरूप शब्दों को ढालने में माहिर थे. ‘थेनम वयंबम’ के ‘ओट्टक्कंबी नादम’, ‘पदकली’ जैसे गीतों की लिरिक्स के जरिए उन्हें खूब सराहा गया. थिरुमाला साल 1981 में ‘थेनम वयंबम’ और ‘तृष्णा’ के लिए और फिर 1991 में ‘कदिनजूल कल्याणम’ के लिए सर्वश्रेष्ठ गीतकारों के स्टेट फिल्म अवॉर्ड से नवाजे गए थे. केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन (cm pinarayi vijayan) ने उनके निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा, ‘बिचु थिरुमाला ने अपने गीतों के माध्यम से फिल्म संगीत को लोगों के करीब लाए.’

उनके अलावा केरल के राज्यपाल ने भी थिरुमाला के निधन पर संदेवना व्यक्त की है. उन्होंने लिखा, ‘श्री बिचु थिरुमाला, प्रसिद्ध गीतकार और कवि के निधन के बारे में जानकर दुख हुआ, जिनकी धुनों ने तीन दशकों में सभी वर्गों के लोगों को समान रूप से मंत्रमुग्ध किया.. मेरी हार्दिक संवेदना.’

बहुत से लोग इस बात से अंजान हैं कि बिचु थिरुमाला ने दुनिया भर में अपने जादुई म्यूजिक और आवाज के लिए मशहूर ए आर रहमान (AR Rahman) के लिए भी लाइन लिखी थीं. उन्होंने फिल्म ‘योद्धा’ के एक मलयालम संगीत के लिए लाइनें लिखीं थीं जिसे ए आर रहमान ने आवाज दी थी. उनका पहला गीत ‘ब्रह्मा मुहूर्तथिल’ काफी लोकप्रिय हुआ था. 1970 के दशक में उन्होंने संगीत निर्देशक ए. टी. उमर के साथ मिलकर कई मधुर धुनों की रचना की थी.

गाने की लिरिक्स लिखने के अलावा थिरुमाला एक्टिंग में भी हाथ आजमा चुके थे. उन्होंने 1972 में मलयालम फिल्म ‘भज गोविंदम’ (Bhaja Govindam) से डेब्यू किया, जिसका निर्देशन सीआरके नायर ने किया था और जया विजया ने संगीतकार के रूप में काम किया था. इसके बाद थिरुमाला सबसे सफल मलयालम गीतकारों में से एक बन गए.

Tags: South Indian Films, South Indian Movies



Source by [author_name]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *